Monthly Archives: June 2014

मधुरजनी

हमारे प्रथम मिलन की थी कितनी खूबसुरत शुरुआत….आलिंगन में हम को देख रुक गई थी सितारों की बारात.. चुलबुली चांदनी छुप छुप चंदा को बताती थी प्रेम के राझपपीहा – चकोर भी करते थे बगिया से हमारे हीप्रेम की बात … Continue reading

Posted in "प्रेम का प्याला", हिन्दी | Leave a comment

घर

बच्चों को जब आते है पर बिखरते हैं बसें -बसाये घर  सूने हो जाते हैं चहकते दर बिलखते हैं तब मुस्कुराते घर  जमा हो जाता है ऱज का थर सूनसान लगते हैं थे जो रोशन घर  काम नहीं आते इकट्ठे लाखों जरसिसकते हैं … Continue reading

Posted in दोस्ती और जिंदगी ..., हिन्दी | Leave a comment

पापा

WISHING YOU ALL MY READERS HAPPY FATHER’S DAY… माँ का साथ ममता मय होता है …पर पापा का हाथ समता मय होता है…माँ चूल्हे में खूब खाना पकाती है …जब पापा की पसीने की कमाई घर आती है माँ प्यार से … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

પ્યાસ

એની સલૂણી વાતો થી લાખેણાં સપનાં વાવેસખી મારા સાજણ ની તોલે કોઈ નાં આવે  દરવેશ થી એના ભામિનીઓ નાં મનડા લોભાવે સખી મારા સાજણ ની તોલે કોઈ નાં આવે  રંગ-રંગીલો એની ચાલ થી મન નાં મોરલા બહેકાવે સખી મારા સાજણ ની તોલે … Continue reading

Posted in "प्रेम का प्याला", ગુજરાતી | Leave a comment

सिसकियाँ

खामोशियाँ तेरी मेरे दिल के तार अक्सर यूँ छेड़ जाती है …सिसकियाँ तेरी बिरहगान बन के मेरे होठों पे गुनगुनाती है … अंगड़ाईयाँ तेरी मेरे अरसों से सोए हुए ख्वाबों को जगाती है नजदीकियां तेरी मेरे बरसो पुरानी बदकिस्मती भगाती … Continue reading

Posted in संवेदना, हिन्दी | Leave a comment

पहरा

रास्ता भी है सिर्फ सहरा दर्द भी है दिल का गहरा तन बदन जलाती गर्मी में आंसू एक पल भी नहीं ठहरा  ढूँढू तो ढूँढू कहाँ हमसफ़र लगाया है जमाने ने पहरा  कर दे मेहरबानी रब अब दिखा दे बिछड़े यार का चहेरा …….

Posted in "प्रेम का प्याला", हिन्दी | Leave a comment

जज्बा

नफ़रत का कायम नहीं रहता ताज, जहर जुदाई का चख ले तूमोहब्बत करेगी सब के दिलो पे राज उम्मीद मन में रख ले तू ना मायूस हो, ना टूट ने दे तेरा जज्बा यार मुश्किल हालात से गुजर जाएगी बीती … Continue reading

Posted in दोस्ती और जिंदगी ..., हिन्दी | Leave a comment