Monthly Archives: April 2014

ख़्वाब

तुम ही मेरे ख़्वाब होतुम ही मेरे रुबाब होसजना तुम ही हो बंदगीमेरी जिंदगी के नवाब होतुम ही मेरे सवाल होतुम ही मेरे ख़याल होदुनिया की परवा मैं क्यों करूँमेरे ईश्क का तुम हर जवाब होतुम ही मेरे शबाब होतुम … Continue reading

Posted in संवेदना, हिन्दी | Leave a comment

ताज

संगेमरमर सा बदन है तुम्हारा तुम ही हो ज़िंदा ताज हमारा देखते ही तुम्हें भूल जाऊं सारा नजारा कमसीनयत का भरा है पूरा खजाना …..संगेमरमर सा बदन है तुम्हारा ,तुम ही हो ज़िंदा ताज हमारा चहकती हो जैसे गए पपीहा … Continue reading

Posted in "प्रेम का प्याला", हिन्दी | Leave a comment

काफ़िर

हर हसीन चहरे को दिल में बसाया नहीं जाता सब मुमताज़ के लिए ताज बनाया नहीं जाता मकान बालू की बुनियाद पे चुनवाया नहीं जाता एतबार – सच्चाई ना हो वहाँ रिश्ता निभाया नहीं जातादरिया में मकाम के जलसे का मशाल जलाया नहीं … Continue reading

Posted in संवेदना, हिन्दी | Leave a comment

,,,,,,,,,,,તારા ગયા પછી

છવાય છે નાં કોઈ દૂર તારા ગયા પછીજીવાય છે ક્યાં દૂર તારા ગયા પછી ઘવાય છે દિલ દૂર તારા ગયા પછી જીરવાય છે ક્યાં દૂર તારા ગયા પછી ખવાય છે તન દૂર તારા ગયા પછી ખોવાય છે શમણે ક્યાં દૂર … Continue reading

Posted in संवेदना, ગુજરાતી | Leave a comment

ચાહ

છટકવું છે ક્યાં મારે ભટકવું છે રાહ તારે ધરપવું છે ક્યાં મારે તરસવું છે ચાહ તારે ફરકવું છે ક્યાં મારે તડપવું છે આહ તારે ઝડપવું છે ક્યાં મારેવરસવું છે બાંહ તારે કમલેશ રવિશંકર રાવલ

Posted in "प्रेम का प्याला", ગુજરાતી | Leave a comment

ख़्वाब

सहरा भी गीत गाने लगा, मौसम भी रुख बदलने लगा किया तूने क्या पीया जादू दिल में ख़्वाब सँवरने लगा भँवरा हर कली पे मंडराने लगा बगिया भी गुल खिलाने लगा तेरे शख्सियत की खुशबू से मनमंदिर मेरा महकाने लगा … Continue reading

Posted in "प्रेम का प्याला", हिन्दी | Leave a comment

हमसफ़र

गिराना था जब नजरों से , तो दिल में बसाया क्यूँ…..बहा देना था यादों को आंसू में तो होठों पे सजाया क्यूँ भोंकना था खंजर पीठ में तो फिर गले हमें लगाया क्यूँ जलाने थे जज्बात जब मेरे सोए ख़्वाबों को … Continue reading

Posted in दोस्ती और जिंदगी ..., हिन्दी | Leave a comment