Monthly Archives: February 2019

दूरी

Advertisements

Posted in "प्रेम का प्याला", हिन्दी | Leave a comment

मज़हब

राम -रहीम का नाम लेते ही हर चहेरे पे नूर हो जाए मज़हब की दूरियाँ कायम के लिए यूँ ही दूर हो जाए गिर जाए फिरका परस्ती की दिवारें और फैले भाईचारा तो दुनिया में मेरा हिंदोस्तान सब से मकदूर … Continue reading

Posted in प्रक्रुति और ईश्वर, हिन्दी | Leave a comment

नियाज

मिलती नहीं तेरी नियत तेरे कारनामों से, आगाज़ बदल अल्फाजों और किरदार का मेल ही नहीं हैं आवाज़ बदल नहीं पहुँच रहे है सूर, बार बार दोहरा के भी रूह तक कुछ तो कमी होगी तेरी तालीम में थोडा रियाज … Continue reading

Posted in प्रक्रुति और ईश्वर, हिन्दी | 1 Comment

URI

हम #URI देख के खुशीयाँ मनाते रहे, वो #CRPF पे हमला करने का #plan बनाते रहे, हम #surgical #strike का गाना बजाते रहे वो #शहीदों की लाशों पे #दुश्मन को नचाते रहे हम #PDP के संग कश्मीर में अपनी सरकार … Continue reading

Posted in देश मेरा ...., हिन्दी | Leave a comment

आबरु

तुम कोई मोहब्बत के फरिश्ते नहीं, इंसान हो, नबी जितने खुदा से रिश्ते नहीं करना है प्यार तो ताउम्र रूह और दिल से करो, मूझे तो पूरी रकम ही पसंद हैं, किश्तें नहीं वादा वही करता हुँ जिसे अंजाम तक पहुँचा … Continue reading

Posted in संवेदना, हिन्दी | 1 Comment

कहीं और कर

छोड़ तेरी छंद की सूफियाना बातों को जज़्बात पे गौर कर, मिल ले गले, अना छोड के वरना मुलाकात कहीं और कर पाक है दामन मेरा, नहीं फंसा पाओगे इल्जाम लगा के, करनी है गुनाह की छानबीन, तो तहकीकात कहीं … Continue reading

Posted in संवेदना, हिन्दी | Leave a comment