चाल्या क्यॉं तमे?

image.jpeg

Advertisements
Image | Posted on by | Leave a comment

श्री राम

Posted in प्रक्रुति और ईश्वर, हिन्दी | Leave a comment

बहाना

नज़रों का मिलना तो सिर्फ एक बहाना था,
परवाने को शमा के दर जलने ही जाना था,

Posted in संवेदना, हिन्दी | Leave a comment

સ્મરણ

Posted in संवेदना, ગુજરાતી | Leave a comment

शायर

Posted in "प्रेम का प्याला", हिन्दी | Leave a comment

રામ

Posted in प्रक्रुति और ईश्वर, ગુજરાતી | Leave a comment

खुशी

Posted in प्रक्रुति और ईश्वर, हिन्दी | Leave a comment

चाँदनी

Posted in प्रक्रुति और ईश्वर, हिन्दी | Leave a comment