Monthly Archives: August 2014

आझादी

एक बार फिर लाल किले पे आझादी का झंडा फहराया गया…गरीबी हटाएँगे उन नारों को सब के आगे दो बारा दोहराया गया सब नागरिक को नसीब होगी रोजी- रोटी- कपडा और मकान देश बनेगा सोने की चिड़िया कहानीओ की तरह … Continue reading

Posted in देश मेरा ...., हिन्दी | Leave a comment

योगेश्वर

तेरा हर शब्द था मर्म से भरपूर, तेरा हर कर्म था धर्म से पूर्ण…तू ही योगी, तू ही वियोगी, तू ही सखा, तू ही था प्रेमी सम्पूर्ण तेरा शैशव बचपन का वैभव, तेरी युवानी युग की कहानी तेरे नाम के … Continue reading

Posted in प्रक्रुति और ईश्वर, हिन्दी | Leave a comment

नमन

चाहा जिंदगी से भी ज्यादा उन्होंने वतन करों दोस्तों उन सपूतों को शत-शत नमन सींचा जिन विरलों ने अपने खून से चमन …करों यारों उन वीरों को बार – बार नमन छोड़ शेरवानी निकल पड़े थे ओढ़ के कफ़न सरफ़रोशी … Continue reading

Posted in देश मेरा ...., हिन्दी | Leave a comment

जल्लाद

शुक्रगुजार रहूँगा मेरे दोस्त उम्रभर तेरा,भले तू आज वक्त का मारा मेरे साथ नहीं..इंतज़ार भी करता रहूँगा उम्रभर तेरा,दिल तेरा आज भी मुज़ से दूर नहींमजबूरियों को तेरी बेवफाई समज ले,इतना भी दिल मेरा नादान नहींखुदा करे तेरी सारी मुराद … Continue reading

Posted in दोस्ती और जिंदगी ..., हिन्दी | Leave a comment

निशानी

अजब कितनी है जिंदगी की कहानी देखिए बुढ़ापे में भी लोगों की खिलती जवानी देखिए उड़ के आए हैं पंछी सात समंदर से पार, किस्मत ने कहाँ लिखा है दाना-पानी देखिए … रहते है प्यासे जो पगले दरिया किनारे, भटकते … Continue reading

Posted in दोस्ती और जिंदगी ..., हिन्दी | Leave a comment

કંચનવર્ણી

ચાંદની ને સંગાથે વિતાવી સારી રાત …ઉગ્યું સવારે શ્વેત-ધવલ નિર્મળ પ્રભાત નજર હતી સારી મહેફિલ ની એના તરફ મૃગનયની માં હતી જરૂર કોઈ ખાસ વાત કોયલડી નાં ટહુકે ગુંજ્યા સૂના મન ના પાદરોહતાં જે હૈયાં રણ સમા ત્યાં ખીલ્યાં પારિજાત … Continue reading

Posted in संवेदना, हिन्दी | Leave a comment

परवाज

सियासती इन्क़िलाबी नारों की बीच उठी है दबे- कुचलों की अावाझ …. भूखमरी – कंगाली – बदहाली को छोड़ भरेंगे अब प्रगति की परवाज …. सूचना और प्रसार क्रान्ति के युग में भगाएंगे अज्ञान का अंधियारा गिरेगी अब काला बाजारीओं … Continue reading

Posted in देश मेरा ...., हिन्दी | Leave a comment