Category Archives: दोस्ती और जिंदगी …

गाना सूना था कभी- ” दोस्ती का नाम है जिंदगी , दोस्ती का नाम है जिंदगी ” …..शोले देखी थे तब से दोस्ती का एक जज्बा दिल में छा गया बस दोस्तों के लिए हमें तो जीना आ गया, जिंदगी हमें चलाती गयी हम भी साथ निभाते निभाते चलते गए जिंदगी के साथ…रास्ते में जिसने भी मांगा हमारा साथ सभी को थमा दिया हमने अपना हाथ …हम भी बढ़ते गए आगे जिंदगी के ये कारवाँ के साथ…बढ़ रहे हैं आगे…आधी मंजिल काट ली है अपने हिसाब से ..पता नहीं की ऊपर से कब बुलावा आ जाए इसलिए जो भी पल मिलते हैं उसे दिल से जीते हैं , सुख – दुःख , मान -सन्मान से पर हूँ मैं…कमल हूँ मैं हैं वो कमल जिसे संसार के पानी के बीच में कादव – कीचड में ही अपना बसेरा बना डाला है पर उस कमल के पंखुड़ियाँ अभी भी निस्पृहित है …..निष्कलंकित भी …..जिसे संसार के माया से कुछ नहीं चाहिए सिवा प्यार…मोहब्बत …इश्क …इबादत…!!!

दम

Advertisements

Posted in दोस्ती और जिंदगी ..., हिन्दी | Leave a comment

દિવાળી

મન માં થી વહેમ ના જાળાં કાઢો તો થાય દિવાળી દુશ્મન ને નહીં દુશ્મનાવટ ને વાઢો તો થાય દિવાળી ભૂત-પલિત ને મેલો પડતાં, સંબંધો માં એ છે નડતાં કાળી ચૌદશે કાલ ના લક્ષ્ય ને સાધો તો થાય દિવાળી જાતે માણસ … Continue reading

Posted in दोस्ती और जिंदगी ..., ગુજરાતી | Leave a comment

इमानदार

आप पानी पे ही पानी की कहानी लिखते रहे हम जल महल में इंतज़ार करते जलते रहे प्यार नहीं है कोई खेल, है ये रूह और दिलों का मेल पर तुम मोहब्बत के नाम पे जिस्म से सिर्फ छलते रहे … Continue reading

Posted in दोस्ती और जिंदगी ..., हिन्दी | Leave a comment

रहनुमा

गले मिल के पीछे से वार करना, सिखा रहे हैं लोग, भटका के मंजील़ रहनुमा बनने राह, दिखा रहे हैं लोग बनाते हैं, बताते हैं अनजानों को भी दोस्त, रुतबा जताने पर कलह का ज़हर कबीले के रिश्तों में मिला रहे … Continue reading

Posted in दोस्ती और जिंदगी ..., हिन्दी | Leave a comment

सूर

Posted in दोस्ती और जिंदगी ..., हिन्दी | Leave a comment

दुआ

Image | Posted on by | Leave a comment

सिलसिला

Posted in दोस्ती और जिंदगी ..., हिन्दी | Leave a comment