Category Archives: देश मेरा ….

सोने के चिड़िया था देश हमारा…सुवर्ण युग था भारत राष्ट्र का…हम कर्म को भूल गए….आलसी हो गए..बातूनी हो गए…भूल गए हम भगवान् शिव को जिन्हों ने समस्त ब्रह्मांड के कल्याण के लिए जहर पी लिया था… और सदैव संसार के माया से अलिप्त जीवन का अंतिम और सही निवास स्मशान को अपना घर बनाया..कैलास में बस के प्रकृति से अपना प्यार जताया , भौतिक सुख को उन्होंने कभी नहीं अपनाया, परिवार को उन्होंने कुदरत के गोद में बसाया …
वापस हमें देश को सोने के चिडिया बनाना है तो जीवन एम् हमें मूल्यों का निर्माण करना होगा …हमारा व्यक्तित्व पारदर्शी रखते हुए हर एक इंसान को ईश्वर का स्वरुप समझते हुए किसी भी प्रकार का भेदभाव पूर्ण व्यवहार से बचना होगा, “सर्वधर्म सम: सर्वधर्म मम:” के मंत्र द्वारा सारे धर्मो को उचित सन्मान देते है भातृभाव से जीना होगा और जीने देना होगा…!!

नोटबंदी- नियत

Posted in देश मेरा ...., हिन्दी | Leave a comment

नोटबंदी 

Posted in देश मेरा ...., हिन्दी | Leave a comment

राष्ट्रभाषा

Image | Posted on by | Leave a comment

‎वीर जवान‬

Image | Posted on by | Leave a comment

26/11

Image | Posted on by | Leave a comment

दिवाली

Image | Posted on by | Leave a comment

ये कहाँ आ गए है हम ….???

Image | Posted on by | 2 Comments